गन्ना किसानों के लिए प्रकाश पर्व से पहले खुशखबरी


गन्ना किसानों के लिए प्रकाश पर्व से पहले खुशखबरी । प्रदेष के गन्ना किसानों को फसल सुरक्षा हेतु 900 रुपए प्रति हैक्टेयर अनुदान दिया जाएगा। जिससे किसानों की फसल लागत में कमी आएगी और उनका मुनाफे में वृद्धि होगी । ये फैसला उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से लिया गया है। उत्तर प्रदेश सरकार ने प्रदेश के किसानों के हित में यह फैसला लिया है। किसानों को गन्ने की फसल को कीट और रोगों से सुरक्षित रखने के लिए फसल सुरक्षा हेतु रासायनिक दवाओं की खरीद पर सहायता दी जाएगी। जिससे किसानों की फसल की लागत कम होगी और किसान लाभान्वित उन्हें लाभ होगा। 

बीज भूमि और पेड़ी प्रबन्धन पर बढ़ी अनुदान राशि 

उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से गन्ना फसल की सुरक्षा के लिए अलग-अलग दो योजनाओं के अन्तर्गत किसानों की फसल की सुरक्षा हेतु अनुदान मुहिया करायी। इसमें से पहला बीज भूमि उपचार कार्यक्रम है और दूसरा पेड़ी प्रबंधन कार्यक्रम। अभी तक राज्य सरकार इन दोनों योजनाओं के माध्यम से किसानों को अलग-अलग अनुदान उपलब्ध कराती रही है। लेकिन अब सरकार ने दोनों योजनाओं को मिलाकर एक कर दिया है साथ ही दिए जाने वाले अनुदान में भी बढ़ोतरी की है। 

फसल सुरक्षा की दवाओं खरीद पर 900 रूपये अनुदान

उत्तर प्रदेश में किसानों को बीज भूमि उपचार कार्यक्रम तथा पेड़ी प्रबंधन कार्यक्रम के तहत अनुदान दिया जाता है, लेकिन अब दोनों योजना को समाप्त कर एक ही अनुदान योजना चलाई जाएगी। योजना के तहत राज्य सरकार की स्वीकृति प्राप्त होने के बाद अब गन्ना किसानों को उनकी बुआई से लेकर पेड़ी प्रबंधन तक उपयोग किए जा रहे किसी भी फसल सुरक्षा रसायन की लागत का 50 प्रतिशत अनुदान अथवा अधिकतम 900 रुपए प्रति हेक्टेयर की दर से अनुदान दिया जाएगा। बता दें कि इससे पहले बीज भूमि उपचार कार्यक्रम के तहत गन्ना रसायनों पर लागत का 50 प्रतिशत या अधिकतम 500 रुपए प्रति हेक्टेयर का अनुदान दिया जाता था तथा पेड़ी प्रबंधन कार्यक्रम के लिए पेड़ी गन्ना फसल की सुरक्षा के लिए उपयोग में लिए जाने वाले रसायनों की लागत का 50 प्रतिशत या अधिकतम 150 रुपए प्रति हेक्टेयर का अनुदान दिया जाता था। अब अलग-अलग अनुदान की इस व्यवस्था को खत्म करके एक योजना तैयार की गई है। इसमें किसानों को कृषि रसायनों की खरीद पर कुल अधिकतम अनुदान 900 रुपए प्रति हैक्टेयर दिया जाएगा। 

गन्ना किसानों को मिलेगा कृषि रक्षा रसायनों पर अनुदान

 गन्ना फसल के लिए किसान कोई भी संस्तुत रसायन का उपयोग गन्ने का पौधा फसल, उसकी बुआई के समय बीज व भूमि उपचार या पेड़ी प्रबंधन आदि के लिए कर सकते हैं। राज्य सरकार की ओर से गन्ना किसानों के हित में लिए गए इस निर्णय एवं अनुदान में बढ़ोतरी किए जाने के परिणामस्वरूप गन्ना की खेती में फसल सुरक्षा उपायों को अपनाने से गन्ना उत्पादन में गति आएगी और कुल उत्पादन में बढ़ोतरी होगी। इससे किसानों की लागत घटेगी और उन्हें लाभ होगा।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ब्राह्मण वंशावली

ब्रिटिश काल में भारत में किसानों की दशा

मिर्च की फसल में पत्ती मरोड़ रोग व निदान